• न्यूज की न्यूज डेस्क.

हरियाणा में प्राइवेट नहीं सरकारी स्कूल खोलने का प्लान बना रही सरकार

कोरोना महामारी के चलते पांच महीनों से बन्द पड़े स्कूलों को खोलने को सरकार रणनीति तैयार कर रही हैं। जिसके लिए विशेषज्ञों की राय ली जा रही है, उसी के अनुसार स्कूलों को खोला जाएगा। हालांकि सरकार प्राइवेट की बजाय सरकारी स्कूलों को खोलने की ओर ज्यादा ध्यान दे रही है।



शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर भी खुद मान रहे हैं कि सरकारी स्कूल खोलने में ज्यादा रिस्क नहीं है, क्योंकि एक गांव में स्कूल हैं और उसी गांव के बच्चे आते हैं। ऐसे में दो शिफ्टों में 15-15 बच्चों को पढ़ाने में कोई परेशानी नहीं होगी। हालांकि अभी तक कोई फैसला नहीं किया गया है। विशेषज्ञों की राय ली जा रही है, उसके बाद ही स्कूल खोले जाएंगे।

शिक्षा मंत्री शुक्रवार को वन विभाग परिसर में पौधरोपण करने के बाद पत्रकारों से बात कर रहे थे। शिक्षा मंत्री ने स्पष्ट किया कि 12वीं के स्कूलों में आसपास के तीन-चार गांवों के बच्चे आते हैं। बच्चे किसी सांझा व्हीकल या गाड़ी में नहीं बल्कि पैदल या फिर साइकिल पर आते हैं। ऐसे में सोशल डिस्टेंसिंग बनी रहेगी। इसके लिए बाकायदा विशेषज्ञों की राय ली जा रही है।

इसके साथ ही प्राइवेट स्कूलों की ओर से फीस भरने के दबाव के सवाल पर शिक्षा मंत्री ने कहा कि स्कूल प्रबंधकों को आदेश दिए गए हैं कि केवल ट्यूशन फीस ही ली जाए। सभी जिला शिक्षा अधिकारियों को आदेश दिए गए हैं कि जो स्कूल ट्यूशन फीस ले रहे हैं, उसे पारदर्शी तरीके से लिखित में दिया जाए। यदि कहीं गड़बड़ी पाई गई तो सख्ती कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

9 views