• न्यूज की न्यूज डेस्क.

न्यूज ये है कि : बस में तुम्हारे हवाले कोरोना साथियों

न्यूज की न्यूज : जब कोरोना आया तो सरकार काफी डरी हुई थी और पूरी तरह लॉकडाउन कर दिया था। लेकिन उसके बाद धीरे-धीरे इस तरह बदलाव करते गए कि कोरोना का सारा भार लोगों के ऊपर आ गया है। सरकार को तो केवल अपना खजाना भरने की पड़ी हुई है। अब फिर सरकार ने एक ऐसा ही निर्णय लिया है। जानिए क्या है वो...

भूल जाओ सोशल डिस्टेंस :  - सरकार एक तरफ तो रोज प्रचार करती है कि सोशल डिस्टेंस का ध्यान रखें, मास्क लगाएं और समय-समय पर हाथ सेनेटाईज जरुर करें। - लेकिन सरकार ने अब निर्णय लिया है कि रोडवेज की बसें पूरी तरह भरकर चलेंगी। बस में 52 सवारियां बैठ सकेंगी। - पहले यह नियम 30 सवारियों का था, फिर से 35 सवारियों का किया गया और अब इसे 52 सवारियों का कर दिया है। - ऐसे में बड़ा सवाल उठता है कि इतनी सवारियों के साथ सोशल डिस्टेंस बसों में कैसे रह पाएगी। - बसों में जाकर हमने देखा तो सामने आया कि पूरी तरह भरकर चल रही हैं और आधे से ज्यादा लोग मास्क भी नहीं लगाते। - लेकिन सरकार है कि मानती ही नहीं, आदेश देती रहती है। एक तरफ कह रही है कि 52 सवारी बिठा सकेंगे और दूसरी तरफ कहते हैं कोरोना से बचाव रखें। अब ये दोनों काम एक साथ कैसे हो सकते हैं ये तो सरकार ही बता सकती है।

सरकार को खजाने की चिंता : - हमारी सरकार को लोगों के स्वास्थ्य की नहीं बल्कि अपने खजाने को भरने की चिंता है। - जब शराब बंद हुई तो खजाना भरने के लिए उसे तुरंत खोल दिया गया। - अब बसों में आधी सवारी बिठा रहे थे तो सरकार ने फिर से घाटे का हवाला देते हुए कह दिया कि सभी सीटों पर सवारी बिठा सकते हैं। - अगर सरकार को लोगों की सेहत की चिंता होती तो वो सवारियों की संख्या बढाने की जगह बसों की संख्या बढाती। क्योंकि अभी भी काफी बसें खाली बस स्टैंड पर खड़ी रहती हैं और चलती नहीं।

खैर छोडिए सरकार की बातें, कोरोना आप को हो सकता है इसलिए आप ही अपना ध्यान रखें, घर से कम निकलें, निकलें तो बसों में जाने की जगह निजी वाहन से जाने की सोचें, अगर बस से जाना भी पड़े तो अपना ध्यान खुद रखें क्योंकि आपका ध्यान रखने वाला और कोई नहीं है।

17 views