top of page
  • न्यूज की न्यूज डेस्क.

पानीपत के बाद अब जींद में चला पुलिस का डंडा, जानिए क्यों?

गुरूवार को पानीपत में न्याय मांगने आए लोगों पर पुलिस के लाठी चार्ज के बाद अब जींद में इसी तरह का मामला सामने आया है। शुक्रवार को नौकरी बहाली के लिए प्रदर्शन कर रहे पीटीआई शिक्षकों पर पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया। दरअसल पीटीआई शिक्षकों में से एक ने आत्मदाह की कोशिश की थी, पुलिस ने उसे रोका, इस दौरान पीटीआई शिक्षकों और पुलिस के बीच जमकर हाथापाई हुई। जब बात हाथापाई से ऊपर चली गई तो पुलिस ने लाठीचार्ज शुरू कर दिया और पीटीआई शिक्षकों को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा।


घटना शुक्रवार दोपहर के समय की है। जींद में पीटीआई शिक्षक धरना प्रदर्शन कर रहे थे। इसी दौरान धमतान तपा के पूर्व प्रधान रंगीराम धरना स्‍थल पर पहुंच गए। पुलिस का कहना है कि रंगीराम ने तेल डालकर आत्मदाह की कोशिश की। आत्मदाह से पहले ही पुलिसकर्मियों ने उन्‍हें पकड़ लिया। इसके बाद दूसरे पीटीआई शिक्षक आ गए। उनके और पुलिस के बीच हाथापाई शुरू हो गई।

हाथापाई और धक्का-मुक्की के दौरान पुलिस ने उन्हें काफी देर रोका लेकिन जब शिक्षक नहीं माने तो पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया। फिर पुलिस ने शिक्षकों को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा। वहीं शिक्षकों का आरोप है कि शांति से धरना चल रहा था। पुलिस ने जानबूझकर लाठीचार्ज करते हुए सभी को पीटा है।

वहीं डीएसपी कप्‍तान ने बताया कि धमतान तपा के पूर्व प्रधान रंगीराम ने बर्खास्त पीटीआई के समर्थन में शुक्रवार को धरना स्थल पर आत्मदाह का प्रयास किया। लेकिन पुलिस ने उसे पहले ही पकड़ लिया। उन्‍होंने बताया कि रोहतक में रंगीराम ने आत्‍मदाह की चेतावनी दी थी। इसके बाद वह जींद आ गया। वह गाड़ी से उतरा और तेल डालकर आत्‍मदाह करने लगा। पुलिसकर्मियों ने उसे बचाया। वहीं रंगीराम को हिरासत में ले लिया गया। अभी भी शिक्षक पुलिस प्रशासन के विरोध में नारेबाजी कर रहे हैं।

4 views
bottom of page