• न्यूज की न्यूज डेस्क.

न्यूज ये है कि : अब हरियाणा भाजपा में चलेगा 'आ देखें जरा किस में कितना है दम' जानिए क्यों?

न्यूज की न्यूज : लंबे मंथन के बाद बुधवार सुबह हरियाणा भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ओम प्रकाश धनखड़ ने जिलाध्यक्षों के नामों की घोषणा कर दी। लेकिन इन नामों की लिस्ट देखने के बाद लग रहा है कि धनखड़ ने एक्टिव और टिकट न मिलने से परेशान कई लोगों को संगठन में जिम्मेदारी है। मतलब धनखड़ साहब ने सीएम मनोहर लाल के मुकाबले अपनी मजबूत टीम खड़ी कर दी है। ऐसे में देखना होगा कि बीजेपी सरकार वाली टीम में ज्यादा दम है या प्रदेश अध्यक्ष की संगठन वाली टीम में।

इस बात को समझाने के लिए हम आपको कुछ समय पहले के इतिहास में लेकर चलते हैं।

- जब भाजपा प्रदेश अध्यक्ष के नाम को लेकर खींचतान चल रही थी।

- खट्टर साहब ने कृष्ण पाल गुर्जर के लिए खूब जोर लगा रखा था और इससे भी ज्यादा जोर इस बात पर लगा रखा था कि कोई जाट नेता प्रदेश अध्यक्ष न बने।

- लेकिन चुपचाप बैठे ओपी धनखड़ ने संगठन के पुराने रिश्तों और नड्डा के साथ पुरानी दोस्ती का फायदा उठाते हुए प्रदेश अध्यक्ष बनकर सभी को चौंका दिया था। सबसे ज्यादा इससे झटका उन्हीं की पार्टी के सीएम मनोहर लाल को लगा था।

- मनोहर लाल दो बातें कभी नहीं चाहते थे। एक तो ये कि प्रदेश अध्यक्ष कोई जाट नेता न हो और दूसरा ये कि प्रदेश अध्यक्ष कोई एक्टिव व्यक्ति न हो। लेकिन धनखड़ के बनने से खट्टर साहब के दोनों ही सपने अधूरे रह गए।

- संगठन ने सीधे तौर पर उनकी बातों को दरकिनार कर उन्हीं को टक्कर देने वाला एक्टिव और जाट नेता प्रदेश अध्यक्ष बना दिया। लेकिन खेल यहीं खत्म थोड़े होने वाला था, धनखड़ साहब का खेल तो यहां से शुरू होने वाला था।

- ओपी धनखड़ ने प्रदेश अध्यक्ष बनते ही हरियाणा का भ्रमण शुरू कर दिया और उन लोगों की लिस्ट बनाई जो टिकट ने मिलने और अन्य कारणों से सरकार वाले गुट से अंदर ही अंदर नाराज चल रहे हैं और एरिया में एक्टिव भी रहते हैं।

- इन नामों में से अपने हिसाब से फिल्टर लगाया और चुपचाप केंद्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से बुधवार को मिलकर जिला अध्यक्षों के पत्रों पर आधिकारिक मोहर लगवा ली।

- इतना ही नहीं किसी को भनक न लग जाए इसलिए बिना किसी देरी और बिना किसी बड़े कार्यक्रम या प्रैस कांफ्रेंस के सुबह-सुबह लोगों के उठने से पहले ही नाम सावर्जनिक कर दिए।

- हरियाणा में भाजपा के सेनापति धनखड़ ने अपने सैनिकों की फौज खड़ी कर दी है। अब देखना यह है कि हरियाणा में भाजपा के राजा की सेना से उनकी सेना कितनी टक्कर ले पाती है।


चलिए अंत में चलते-चलते आपको धनखड़ साहब के सैनिकों यानि जिला अध्यक्षों के बारे में बता दें कि किसको कहां जिम्मेदारी मिली है -

अंबाला से राजेश बतोरा करनाल से योगेंद्र राणा सिरसा से आदित्य देवीलाल राजेश खापड़ा, यमुनानगर कुरुक्षेत्र से राजकुमार सैनी कैथल से अशोक ढांढ जींद से राजू मोर पानीपत से अर्चना गुप्ता सोनीपत से मोहनलाल बडोली विधायक झज्जर से विक्रम कादयान भिवानी से शंकर धूपड दादरी से सत्येंद्र परमार रोहतक से अजय बंसल नूह से नरेंद्र पटेल रेवाड़ी से हुकुमचंद यादव पलवल से चरण सिंह तेवतिया फरीदाबाद से गोपाल शर्मा महेंद्रगढ़ से राकेश शर्मा गुरुग्राम से गार्गी कक्कड़ पंचकूला से अजय शर्मा हिसार से कैप्टन भूपेंद्र सिंह फतेहाबाद से बलदेव गिरोहा

#bjp #bjpharyana #cm #cmharyana #haryanacm #manoharlaal #opdhankar #statepresidentbjp #politicalnews #specailnews #latestnews #haryananews #newskinews

332 views