• न्यूज की न्यूज डेस्क.

दुष्यंत ने 16 साल बाद चौटाला परिवार को सदन में दिलाई चौधर, जानिए कैसे?

हरियाणा विधानसभा का मानसून सत्र बुधवार को शुरू हुआ और एक दिन की कार्यवाही के बाद अनिश्चितकालीन समय के लिए स्थगित भी कर दिया गया। इस सदन में चौटाला परिवार की तरफ से 16 साल बाद किसी ने नेतृत्व किया। सीएम मनोहर लाल की अनुपस्थिति में डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने सदन का नेतृत्व किया।

कोरोना काल के चलते आज हरियाणा विधानसभा का मॉनसून सत्र शुरू हुआ। पहली बार मुख्यमंत्री की अनुपस्थित में सदन की कार्यवाही हुई। इस दौरान डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने शोक प्रस्ताव पढ़ा। फिलहाल, सदन की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दी गई है। 16 साल के लंबे अंतराल के बाद चौटाला परिवार का कोई सदस्य सदन का नेतृत्व किया। सदन में कांग्रेस विधायक करप्शन इन कोविड लिखे मास्क पहनकर सदन में पहुंचे।

सदन ने विपक्ष ने विरोध किया तो उपाध्यक्ष ने बताया कि यह निर्णय नेता प्रतिपक्ष के साथ हुई कार्य सलाहकार समिति में लिया गया है। विज ने कहा कि सीएम सहित 9 विधायक कोरोनाग्रस्त हैं। विधायक यदि सदन चलाना चाहते हैं वह ठीक है। लेकिन हमारे सीएम मनोहर लाल समेत नौ विधायक कोरोना ग्रसित हैं। जो सदस्य सदन चलाने की आवाज उठा रहे थे, उनके नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा बिजनेस एडवाइजरी कमेटी की बैठक में थे। इन विधायकों को हुड्डा की सहमति में सहमति देनी चाहिए। विज ने कहा कि कांग्रेस विधायकों को अपने नेता की सहमति में सहमति जतानी चाहिए।


कोरोना काल में भ्रष्टाचार बढ़ा : हुड्डा नेता प्रतिपक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि जो बीएसी की बैठक में तय हुआ था, उसके मुताबिक काफी एमएलए नहीं हैं और अधिकारी भी नहीं हैं। इसके बावजूद काफी मसले ऐसे हैं जिन्हें उठाया जाना है। बहुत से घोटाले हुए हैं। कोरोना काल में हरियाणा में भ्रष्टाचार बढ़ा है। कोर्ट में जिन बिलों पर जवाब देना है, उन पर ही चर्चा करें। बाकी बिलों को पेंडिंग रखा जाए।


जवाब से अभय संतुष्ट नहीं : हरियाणा विधानसभा में विपक्ष के नेता रह चुके अभय सिंह चौटाला ने कहा कि मैंने अपनी तरफ से बारह ध्यानाकर्षण प्रस्ताव दिए थे, जिसमें से दो ही अलाउ हुए हैं। यह सभी खारिज करता हूं। आपने मेरे दो प्रस्तावों का जो जवाब दिया है, उससे मैं संतुष्ट नहीं हूं। मैं अपने ध्यानाकर्षण प्रस्तावों पर चर्चा करना चाहता हूं। अभय सिंह चौटाला बोले कि मैं स्पीकर से सहमत नहीं हूं। मेरी बात को आपको सुननी होगी। स्पीकर ने कहा कि जब भी आगे चर्चा होगी तो अभय सिंह चौटाला के ध्यानाकर्षण प्रस्तावों पर चर्चा होगी। अभय सिंह चौटाला ने कहा कि राजस्थान में सेशन चला तो क्या वहां चर्चा नहीं हुई। भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि हमारे जो भी ध्यानाकर्षण प्रस्ताव हैं वह खारिज नहीं होंगे। जब भी सेशन आगे चलेगा, उन पर चर्चा होगी।


परीक्षा पर बोले शिक्षा मंत्री : संसदीय कार्य एवं शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर ने कहा कि हम किसी बच्चे पर यह दाग नहीं लगवाना चाहते कि उसके पास कोरोना वाली डिग्री है, इसलिए हम हर हाल में कोई न कोई बीच का रास्ता निकालते हुए परीक्षा जरूर लेंगे। हरियाणा सरकार कोरोना वाली डिग्री नहीं देगी। गुर्जर ने कहा कि शिक्षा विभाग छात्रों को कोरोना वाली डिग्री नहीं देगा। शिक्षा विभाग छात्रों की परीक्षाएं लेकर ही परिणाम देगा। उसी के आधार पर डिग्री दी जाएगी। विश्वविद्यालयों से संबंद्ध महाविद्यालयों में परीक्षाएं ऑनलाइन भी ली जा सकती है।

#dushyantchoutala #dushaynt #jjp #bjp #assembly #haryanaassembly #haryananews #latestnews #newskinews

455 views