• न्यूज की न्यूज डेस्क.

करनाल की ये 9 साल की नव्या, इसकी हंसी अब किसी अपने के कारण नहीं दिखेगी, जानिए क्यों?

फूलों सी प्यारी और परियों सी सजी नौ साल की नव्या। दो दिन पहले ही तीज पर उसने अपनी छाेटी-सी हथेली पर मेहंदी रचाई थी, तब से उसकी खुशी का ठिकाना नहीं था। शनिवार की शाम वह छत पर चहक रही थी। तभी अचानक कुछ ऐसा हुआ जो आपको हैरान कर देगा. जानिए इसके साथ क्या हुआ ...



पिता हाथ में चाउमीन शॉप पर इस्तेमाल होने वाला बड़ा सा चाकू लिए आ धमका। आते ही उसने मासूम की गर्दन पर ताबड़तोड़ छह-सात वार कर दिए। बच्ची की चीख भी नहीं निकली और छटपटा कर उसने चंद सेकंड में दम ताेड़ दिया।

छत से वारदात को देख पड़ोस के लोग चिल्लाए तो हत्यारा छत्रपाल उर्फ रोहित नीचे उतरकर सीढ़ियों पर बैठ गया। लोगों ने बच्ची तक पहुंचने की कोशिश की तो रोहित ने चाकू निकाल लिया, जिससे उसने मासूम की गर्दन पर वार किए थे। बच्ची की मौत की खबर सुन मां कृष्णा बेसुध भागते हुए पहुंची, तब भी खूनी पिता वहीं बैठा हुआ था।

उसके कपड़ों और शरीर पर भी खून के छींटे दिख रहे थे। शव को सीने से लगाकर मां करीब 10 मिनट तक अकेली रोती रही, पर हत्यारे ने किसी को पास नहीं जाने दिया। तभी करनाल के उचानी गांव में मौका-ए- वारदात पर पुलिस टीम पहुंच गई। आरोपी वहीं डटा था। उसके शरीर से शराब की बू आ रही थी। मौके से उसे गिरफ्तार कर लिया गया। गिरफ्तारी के बाद वह जोर-जोर से चिल्लाता रहा कि उसका कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता।


मां बोली- मुझे जो डर था, वहीं हुआ

नव्या की मां ने कहा कि मुझे डर था, इसीलिए बेटी को साथ ही रखती थी। कई दिनों बाद उसे आज ही घर पर अकेला छोड़कर काम पर गई थी, और उसने अनर्थ कर दिया। इसी डर की वजह से हमने दो माह पहले छह साल के बच्चे काे मायके छोड़ रखा है। वहीं ग्रामीणों ने कहा कि छत्रपाल का अपनी पत्नी कृष्णा से अक्सर झगड़ा होता है। वह आए दिन मारपीट करता था। इनको छुड़वाने के लिए कोई नहीं आता था, क्योंकि वह पड़ोसियों को गाली देता था। इसीलिए मां के साथ ही बेटी भी पिता से बात नहीं करती थी।



नशे में था आरोपी

सदर थाने के प्रभारी ललित कुमार ने कहा कि छत्रपाल का मेडिकल करवाया गया है। वह शराब के नशे में था। बच्ची की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पता चलेगा कि गले पर कितनी बार चाकू से वार किए हुए हैं।

7 views