top of page
  • न्यूज की न्यूज डेस्क.

दुष्यंत-विज में फिर ठनी : लाठीचार्ज की जांच करवाने से क्यों बच रहे अनिल विज? किसे बचाना चाह रहे..

जब से हरियाणा में भाजपा और जजपा की मिली हुई सरकार बनी है तब से भले ही डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला और अनिल विज कितनी भी दोस्ती दिखाने की कोशिश कर रहे हों लेकिन उनमें किसी न किसी बात को लेकर ठनती ही रहती है। इन दोनों में फिर से ठन गई है और बड़ा सवाल यह है कि गृह मंत्री अनिल विज लाठीचार्ज की जांच करवाने से क्यों बच रहे हैं?

दरअसल, पिपली में किसानों पर हुए लाठीचार्ज की न केवल विपक्ष बल्कि भाजपा के नेताओं ने भी निंदा की है। सभी ने इसकी जांच की भी मांग की है। अब तो खुद सरकार में डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने भी जांच करने की मांग कर दी है, इसके बावजूद गृह मंत्री अनिल विज इसकी जांच करवाने से मना कर रहे हैं। ऐसे में बड़ा सवाल यही है कि वो जांच करवाने से मना क्यों कर रहे हैं और आखिरकार वो किसे बचाना चाह रहे हैं। जानिए जांच न करवाने के क्या कारण हो सकते हैं -

- भाजपा के जिन भी नेताओं ने जांच की मांग की है वो ज्यादातर जाट नेता हैं और अनिल विज को लगता है कि इनके कहने पर अगर जांच की तो इन नेताओं को किसानों और जाटों में पकड़ और मजबूत हो जाएगी। डिप्टी सीएम दुष्यंत ने भी जांच करवाने के लिए कह दिया है, ऐसे में हो सकता है कि उन्हें लगता हो कि जांच हुई तो इसका फायदा जेजेपी उठाएगी और खुद को किसानों के सामने हीरो साबित कर ले जाएगी। - जांच ने करवाने का एक कारण यह भी हो सकता है कि अभी तक सीएम मनोहर लाल चुप हैं और अनिल विज को अभी उनकी तरफ से इशारा मिलना बाकी है इसलिए जांच नहीं करवा रह हैं। - एक सबसे बड़ा कारण जो हो सकता है वो यह है कि अगर जांच हुई और उसमें पुलिस विभाग की या उनकी कोई गलती मिल गई तो ऐसा न हो कि उनसे गृह मंत्रालय छीन लिया जाए। - कुछ अंदर के सूत्रों की बात मानें तो यह भी कहा जा रहा है कि लाठीचार्ज पुलिस ने किया था लेकिन इसमें मंत्री जी की भी सहमति शामिल थी, इसलिए वो जांच नहीं करवा रहे हैं।

ये है डिप्टी सीएम की मांग : डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने कहा है कि पिपली में किसानों पर लाठीचार्ज किया जाना निंदनीय था और इसकी जांच होनी चाहिए, विशेषकर उन लोगों की जांच होनी चाहिए जिन्होनें पहले लाठी चलाई और फिर रैली में जाने की परमिशन भी दे दी। डिप्टी सीएम की ऐसे किन लोगों की तरफ इशारा कर रहे हैं, कहीं ऐसा तो नहीं कि पहले लाठी मारने और फिर परमिशन देने के पीछे पुलिस वाले मंत्री जी का या विभाग के किसी बड़े अधिकारी का हाथ था।


विज क्या कह रहे : गृह मंत्री अनिल विज का बार-बार एक ही ब्यान आ रहा है कि जब लाठीचार्ज हुआ ही नहीं तो जांच किस बात की करवाएं। अब उन्हें कौन समझाए कि बिल्ली के आँख बंद कर लेने से कुता नहीं चला जाता। इसी तरह उनके मना करने से लाठीचार्ज की बात झुठलाई नहीं जा सकती क्योंकि इसके वीडियो और फोटो पूरे देश ने देखे हैं।

#dushyant #dushyantchoutala #anilvij #diptycm #haryanadiptycm #homeminister #farmer #police #haryana #pipli #haryananews #politicalnews #latestnews #newskinews

860 views
bottom of page