• न्यूज की न्यूज डेस्क.

किस जगह बिना काम किए करोड़ों रुपए के पेमेंट करने के मामले में जांच हुई शरू

Updated: Jul 22, 2020

नगर निगम क्षेत्र में बिना काम किए ठेकेदार को करोड़ों के पेमेंट करने के मामले की जांच सोमवार को शुरू कर दी गई। इनवीटी वे इस संबंध में प्रमुखता से खबर प्रकाशित की थी, जिसके बाद कमिश्नर ने तुरंत एक कमेटी का गठन कर दिया। इस कमिटी के हेड चीफ इंजीनियर ठाकुर लाल शर्मा ने जांच के लिए सोमवार पार्षदों को कार्यालय बुलाया औक पूरी जानकारी ली।




इस दौरान पार्षदों ने सारी बात बताई और कहा कि किस काम का भुगतान ठेकेदार को हुआ है, वह जमीन पर हुए ही नहीं है। चीफ इंजीनियर ने तुरंत अकाउंट ब्रांच से पेमेंट की डिटेल मांगी और पार्षदों को कहा कि वह हर वॉर्ड में जाकर ठेकेदार के किए कार्यों को भी देखें, ताकि इसकी रिपोर्ट कमिश्नर को सौंपी जा सके। नगर निगम के पार्षद दीपक चौधरी, दीपक यादव, महेंद्र सरपंच, कपिल डागर, सुरेंद्र अग्रवाल ने आरोप लगाते हुए कहा था कि साल 2017 से 2019 तक के जनरल फंड के जिन कार्यों के नाम पर पेमेंट दिया गया है, वे काम हुए ही नहीं हैं।

“यह जानकारी पार्षदों ने अकाउंट ब्रांच से लिखित में ली थी। दीपक चौधरी ने तो बताया कि उनके वॉर्ड में टाइल्स, नाली बनाने के नाम पर लाखों रुपये का पेमेंट हुआ है, लेकिन इनमें से कुछ भी हकीकत में नहीं किया गया।”

3 कंपनियों के नाम से पेमेंट


कुल 10 वॉर्डो में एक ही ठोकादार की 3 कंपनियों के नाम से विकास कार्यो का पेमेंट किया गया है। इस खबर को एनवीटी के 7 जुलाई के संस्करण में ‘1 रुपये की ईंट नहीं लगाई, पेमेंट हो गया 50 करोड़ का’ शीर्षक के तहत खबर प्रकाशित की गई थी। जिसके बाद कमेटी बनाकर निगम कमिश्नर ने जांच शुरू करवा दी। सोमवार को सभी पार्षद जांच के लिए चीफ इंजीनियर ठाकुर लाल शर्मा के कार्यालय में मौजूद थे। ठाकुर लाल शर्मा ने कहा कि इन सभी कार्यों की फिजिकल वैरिफिकेशन भी करेंगे, ताकि सच्चाई सामने आ सके।

0 views

Subscribe to Our Newsletter

  • White Facebook Icon

Haryana, India

© 2023 by TheHours. Proudly created with Wix.com