• न्यूज की न्यूज डेस्क.

सीएम विंडो की शिकायतों का समाधान न करने पर हरियाणा में हुई बड़ी कार्रवाई

हरियाणा में सीएम विंडो को लेकर हमेशा सवाल उठते रहते हैं कि यहां आने वाली शिकायतों का समाधान समय पर नहीं होता। ऐसे में अब निर्देश दिए गए हैं कि सीएम विंडो पर आने वाली ऑनलाइन शिकायतों का संबधित विभागों के नोडल अधिकारियों को तत्परता से निपटान करना होगा।

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल के जन सुरक्षा, शिकायत, सुशासन पर सलाहकार और सीएम विण्डो (शिकायत) के प्रभारी अनिल राव और मुख्यमंत्री के ओएसडी भूपेश्वर दयाल ने सीएम विण्डो पर आने वाली शिकायतों का निपटान करने के सम्बन्ध में आज यहां विभागों के नोडल अधिकारियों की एक बैठक की अध्यक्षता करते हुए दी। आगामी बैठक में बेहतर प्रदर्शन करने वाले अधिकारियों व कर्मचारियों को ‘उत्कृष्टता एवं प्रशंसा-पत्र’ देकर सम्मानित करने की शुरूआत करने का निर्णय लिया गया है। बैठक के दौरान बिजली विभाग द्वारा किए गए कार्य को सराहा गया एवं सभी विभागों को दिशा निर्देश दिए गए कि अप्रवासी भारतीयों द्वारा की गई शिकायतों का निपटान प्राथमिता से किया जाए। वहीं इस दौरान उन अधिकारीयों पर बड़ी कार्रवाई भी की गई जो समय पर शिकायतों का समाधान नहीं कर रहे। इन पर हुई कार्रवाई : - आर्थिक अपराध शाखा में तैनात सब इंस्पेक्टर सुभाष चंद्र को आईआईएलएम यूनिवर्सिटी के एक मामले में गलत छानबीन करने के आरोप में दोषी पाया गया, जिसके चलते उन्हें निलंबित कर दिया है। - शिक्षा विभाग में हिन्दी पीजीटी राकेश मोर को बरखास्त करने के आदेश दिए गए हैं। इसके खिलाफ शिकायत थी कि इन्होंने फर्जी एचटेट का सर्टीफिकेट देकर नौकरी हासिल की थी, इन्हें पद ग्रहण करवाने वाले के खिलाफ भी जांच के आदेश दिए गए हैं। साथ ही पुलिस विभाग को मामले की जांच भी सौंपी गई है।

- अरूण असरी, जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी को गलत सर्टिफिकेट जारी करने की एवेज में निलम्बित करने के आदेश दिए गए हैं। - अंकुश कुमार, जेबीटी (अब मुख्य शिक्षक) को निलम्बित करने के आदेश दिए गए हैं। इन पर आरोप था कि इन्होंने ऑर्डर चार्ज का कार्यनिर्वाह करते हुए स्कूल के विद्यार्थियों की वर्दी, बैग, स्टेशनरी का गबन किया और इसके अलावा, मिड-डे-मील के खाते से कुल 1,90,000 रुपए की राशि निकलवाई, जिसका रिकॉर्ड में कोई इन्द्राज नहीं है।

- खाद्य एवं आपूर्ति विभाग की समीक्षा के दौरान पाया गया कि कुरुक्षेत्र में एक ब्लैक लिस्टिड राईस मिल का नाम बदलकर एक नई फर्म बनाकर गत चार वर्ष से करोड़ों रुपए की धान लेने की गड़बड़ी पाई गई जो कि विभागीय नियमों के खिलाफ है। इसका कड़ा संज्ञान लेते हुए बीते चार-पांच वर्ष में जितने भी डीएफएससी कुरुक्षेत्र में नियुक्त रहे हैं, और ऐसी गलती को अंजाम दिया है। इनके विरुद्ध नियम-7 में चार्जशीट करने के आदेश जारी किए हैं और विभाग को सख्त हिदायत दी गई है कि ब्लैक लिस्टिड फर्म को एक भी दाना नहीं मिलना चाहिए।

- समालखा से सीएम विंडो के एमिनेंट सिटीजन श्री राधे श्याम जिन्दल ने गैर जिम्मेदाराना तरीके से रिपोर्ट पर हस्ताक्षर किए, जिस पर कड़ा संज्ञान लेते हुए उन्हें तुरंत प्रभाव से एमिनेंट सिटीजन के पद से हटाने का निर्णय लिया गया है।

- भूपेश्वर दयाल ने शहरी संपदा विभाग में गलत तरीके से भर्ती हुए पटवारी जो अब पदोन्नत होकर नायब तहसीलदार बन गया है, उसके विरुद्ध एक सप्ताह के अंदर जांच पूरी कर रिपोर्ट देने को कहा। - राईस सैलर रामदेव इंटरनेशल लिमिटेड, जीटी रोड, करनाल के विरुद्ध सीएमआर राईस, 19015 क्विंटल कम देने का आरोप है और उसको दुबई से गिरफ्तार कर एफआईआर दर्ज करवाई गई है।

#CMWINDO #HARYANA #HARYANANEWS #LATESTNEWS #POLITICALNEWS

53 views